महिलाओं के खिलाफ हिंसा को लेकर प्रदर्शन, प्रशासन को ज्ञापन

जमशेदपुर: सामाजिक  संस्था युवा की सचिव वर्णाली चक्रवर्ती के नेतृत्व में आज बड़ी संख्या में ग्रामीण युवतियों एवं महिलाओं ने उपायुक्त कार्यालय में जाकर जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपा।ज्ञापन में जेंडर भेदभाव आधारित हिंसा पर रोक के लिए प्रशासनिक एवं कानूनी पहल की मांग की गई।

ज्ञापन में बलात्कारी को कानून के माध्यम से कठोर से कठोर सजा देने, मर्सी पिटिशन का समय कम से कम तय करने, तथा फास्ट ट्रैक कोर्ट में पूर्व-निर्धारित समय के भीतर ऐसे मामलों का निपटारा करने, महिलाओं के खिलाफ हिंसा के मामले में जल्द से जल्द न्याय दिलाने, सभी आने जाने वाले रास्तों एवं सार्वजनिक स्थानों को सुरक्षित बनाने, ट्रांसजेंडर के साथ भेदभाव नहीं करने, संपति में महिलाओं को बराबर अधिकार देने से संबंधित कई मांगें शामिल थीं।

युवा की सचिव वर्णाली चक्रवर्ती ने बताया कि युवा एवं क्रिया प्रत्येक वर्ष की तरह इस वर्ष भी 25 नवंबर से 10 दिसंबर तक जेंडर भेदभाव आधारित हिंसा के अंत के लिए 16 दिवसीय अभियान चला रहे हैं।

उन्होंने कहा कि हम चाहते हैं कि हर क्षेत्र में महिलाओं के लिए नजरिया बदलें। समाज लड़कियों एवं महिलाओं की इच्छाओं को जानें। लड़कियों को खेलने का अधिकार हो। लड़कियों को जितनी चाहे उतनी पढ़ाई करने का अधिकार हो। पुरुषों के द्वारा महिलाओं का नेतृत्व स्वीकार किया जाए। महिलाओं और लड़कियों के ना का मतलब ना ही समझें।

वर्णाली चक्रवर्ती ने कहा कि अब हमें घर, परिवार, कार्य स्थल पर महिलाओं के साथ हिंसा स्वीकार नहीं है।

उपायुक्त कार्यालय के समक्ष प्रदर्शन को सफल बनाने में अंजना देवगम, चन्द्रकला मुंडा, अवंती सरदार, ज्योति हेम्ब्रम, रितिका कुमारी, मोनिका हेम्ब्रम, अनिल बोदरा आदि ने सक्रिय भूमिका निभाई ।

इसके पहले 16 दिवसीय अभियान के तहत टांगराईन में कार्यशाला, गीतिलता एवं हितकु में सायकिल रैली, किशोरियों के बीच चाकड़ी, करनडीह एवं हितकू में पोस्टर एवं स्लोगन प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया।

Leave a Reply